卐 ॥ सप्तवार व्रत कथा ॥ 卐

सातों दिन की व्रत कथा एवं आरती सहित ।

इस वेबसाइट में सोमवार, मंगलवार, बुधवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार, शनिवार, प्रदोष कथा की कहानी, व्रत विधि एवं आरती दी गयी है।

सप्ताह में सात दिन होते हैं और हमारे हिंदु धर्म के अनुसार सातों दिनों के लिये इष्ट देवी अथवा देवता को माना गया है । अत: हम अपनी इच्छानुसार किसी भी देवी – देवता को प्रसन्न करने के लिये उनसे संरक्षित वार को व्रत एवं उपासना कर सकते हैं । कुछ मनुष्य अपने ग्रह तथा राशि के फल के अनुसार भी व्रत करते हैं । सोमवार को मुख्यत: शिव जी का वार कहा जाता है । इस वार को हम व्रत तथा पूजन करके शिव जी तथा माता पार्वती को प्रसन्न कर सकते हैं और अपने अभीष्ट की पूर्ति के लिये प्रार्थना करते हैं । मंगलवार को बजरंग बली हनुमान जी की पूजा तथा उपासना की जाती है । बुधवार रिद्धि-सिद्धि प्रदायक गणेशजी के व्रत का वार है । वृहस्पतिवार को भगवान विष्णु तथा वृहस्पति देव की पूजा की जाती है। शुक्रवार को माँ संतोषी का वार है जो हमें संतोष तथा सुख समृद्धि प्रदान करती है। शनिवार को शनि देव तथा रामभक्त हनुमान जी की पूजा का विधान है । रविवार को सारे जगत को रोशनी प्रदान करने वाले सुर्य देव की अराधना की जाती है ।

पूजा विधान - ध्यान योग्य बातें

१. गणेश जी, शिव जी, विष्णु जी, दुर्गा जी एवं सुर्य देव, ये हमारे पंच देव हैं। पंच देव की पुजा गृहस्थाश्रम में प्रतिदिन करने से धन, लक्ष्मी और सुख की प्राप्ति होती है।
२. तुलसी दल गणेश जी, शिव जी और भैरव जी को नही चढाना चाहिये ।
३. शंख से भगवान सुर्य को जल नही चढाना चाहिये ।
४. तुलसी का पत्ता स्नान करने के बाद ही तोड़ना चाहिये ।
५. एकादशी, द्वादशी ,संक्रान्ति ,रविवार एवं संध्याकाल को तुलसी का पत्ता तोड़ना निषेध माना गया है।
६. शंकर भगवान को केतकी का फूल नहीं चढ़ाते ।
७. शंकर भगवान को लाल चंदन नही चढाना चाहिये ।
८. कमल के फूल को पाँच रात्रि तक, तुलसी- दल ग्यारह रात्रि तक तथा बेल-पत्र को दस रात्रि तक जल छिड़ककर चढ़ा सकते हैं ।
९. फूल को किसी पात्र में लेकर हीं चढ़ायें , एक हाथ में लेकर दूसरे हाथ से फूल नहीं चढ़ाना चाहिये।
१०. दीपक से दीपक जलाने वाला रोगी होता है , इसलिये दीपक से दीपक न जलायें ।
११. चंदन को ताँबे के पात्र में ना रखें ।
१२. प्लास्टिक या चर्म पात्र में गंगाजल ना रखें ।
१३. पतला चंदन भगवान को नहीं समर्पित करना चाहिये ।
१४. देवी- देवताओं का पूजन दिन में पांच बार करनी चाहिये । सुबह 5 बजे से 6 बजे (ब्रह्म बेला) में प्रथम पूजन और आरती , प्रात: 9 से 10 बजे तक द्वीतीय पूजन और आरती, 12 बजे से पहले ( मध्याह्न में ) तीसरा पूजन और आरती होनी चाहिये। उसके बाद शयन करा देना चाहिये। शाम को 4 से 5 बजे तक चौथा पूजन और आरती , रात्रि में 8 से 9 बजे तक पांचवा पूजन और आरती , तत्पश्चात् शयन कराना चाहिये ।
१५. प्रथम चरणों की चार बार , नाभि की दो बार और मुख की एक या तीन बार और समस्तअंगों की सात बार आरती करनी चाहिये ।
१६. पूजा के समय साधक का मुख हमेशा पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होना चाहिये ।
१७. पूजा हमेशा ऊनी आसन या कम्बल अथवा कुशासन पर बैठ कर करनी चाहिये ।
१८. पूजागृह में सुबह एवं शाम को घी का दीपक जलायें ।
१९. पूजा के बाद अपने स्थान पर हीं तीन बार घूमकर परिक्रमा करे ।
२०. पूजाघर में 11 इंच से ज्यादा बड़ी मूर्ति ना रखें ।
२१. गणेश जी , लक्ष्मी जी तथा सरस्वती जी की खड़ी मूर्ति घर में ना रखें ।
२२. प्रत्येक घर में तुलसी का एक पौधा जरूर होना चाहिये ।
२३. अपने पूर्वजों के फोटो को पूजागृह में नहीं रखना चाहिये । उन्हें हमेशा नैऋत्य कोण में रखें ।
२४. शिवलिंग दो , गणेश या देवी की मूर्ति तीन-तीन , शालिग्राम दो, सुर्य प्रतिमा दो, गोमतीचक्र दो की संख्या में नहीं रखनी चाहिये ।
२५. खंडित, टूटी हुई , जली हुई भगवान की मूर्ति या चित्र घर में नहीं रखें । उसे तुरंत किसी मंदिर अथवा नदी में विसर्जित कर दें ।
२६. मंदिर के ऊपर कोई भी सामान ना रखें ।
२७. घर के मंदिर में परदा अवश्य लगायें।

Related Posts

सोमवार व्रत ( Monday Fast)

सोमवार व्रत का महत्व एवं विधि, सोमवार व्रत का कथा, सौम्य प्रदोष व्रत कथा सोमवार की आरती शिवजी की आरती Shiv Ji Ki Aarti in Hindi. what to eat in monday fast, monday fast during periods, monday fast vidhi, monday fast food, monday fast procedure, monday fast katha, monday fast benefits in hindi, shiv aarti, monday fast katha in english, monday fast katha in hindi pdf, monday fast katha in hindi, monday fast rules, monday fast procedure for shiva in hindi, monday fast procedure for shiva, when to break monday fast and monday fast what to eat.

सोलह सोमवार व्रत (16 monday fast)

monday fast udyapan samagri, monday fast udyapan vidhi in hindi, monday vart, monday vrat vidhi, procedure of 16 monday fast udyapan, procedure solah somvar vrat, process of 16 somvar vrat, rules of somvar vrat, solah somvar rules, solah somvar vrat benefits, solah somvar vrat katha, solah somvar vrat katha in english, solah somvar vrat katha in hindi download, solah somvar vrat katha pdf, solah somvar vrat katha pdf download, solah somvar vrat procedure in english, solah somvar vrat rules.

मंगलवार व्रत (Tuesday Fast)

मंगलवार व्रत विधि, मंगलवार की आरती, hanuman ji ka vart, hanuman ji ka vrat kaise kare, how to do tuesday fast, importance of fasting on tuesday, mangalvar vrat udyapan benefits, mangalvar vrat udyapan vidhi, mangalvar vrat udyapan vidhi in hindi, mangalvar vrat vidhi in hindi, tuesday fast benefits, tuesday fast benefits in hindi, tuesday fast diet, tuesday fast for ganpati, tuesday fast method, tuesday fast procedure, tuesday fast procedure in hindi, tuesday fast udyapan, tuesday fast for manglik and tuesday fast katha.

बुधवार व्रत (Wednesday Fast)

बुधवार व्रत विधि, बुधवार की आरती, aarti of ganesh ji in hindi, budh ka mantra hindi me, budh mantra benefits, budh mantra in hindi, budhwar bhajan, budhwar mantra, budhwar vrat benefits,budhwar vrat food, budhwar vrat katha in hindi,budhwar vrat ki vidhi, budhwar vrat udyapan vidhi, budhwar vrat vidhi hindi, do ganesh vrat, ganesh ji aarti, ganesh ji aarti in hindi pdf, ganesh ji bhajan, ganesh ji fast day, ganesh ji ka vrat, ganesh ji ki vrat katha, ganesh ji mantra, ganesh ji mantra in hindi and ganesh ji songs.

बृहस्पतिवार व्रत (Thursday Fast)

brahaspati var vrat katha, braspativar vrat aarti, brihaspati dev vrat katha, brihaspati fast procedure, brihaspati vrat rules, brihaspativar udyapan vidhi, brihaspativar vrat aarti in hindi, brihaspativar vrat ka udyapan vidhi, brihaspativar vrat katha, brihaspativar vrat katha and aarti, brihaspativar vrat katha free download, brihaspativar vrat katha hindi pdf, brihaspativar vrat katha in english, brihaspativar vrat katha in hindi download and brihaspativar vrat katha in hindi free download.

शुक्रवार व्रत (Friday Fast)

friday fast vidhi in hindi, friday fast vidhi in hindi, friday fast vidhi in hindi, friday ki katha, friday laxmi vrat vidhi in hindi, friday vrat katha, friday vrat katha in hindi, santhoshi mata vrat katha, santoshi mata aarti, santoshi mata chalisa, santoshi mata story in hindi, santoshi mata vrat benefits, santoshi mata vrat during periods, santoshi mata vrat food, santoshi mata vrat food recipes, santoshi mata vrat food to eat, santoshi mata vrat for marriage, , santoshi mata vrat ka khana and santoshi mata vrat katha.

शनिवार व्रत (Saturday Fast)

how to do shani dev fasting, saturday fast procedure, saturday fast procedure in hindi, saturday fast rules in hindi, saturday fasting benefits, saturday vrat, saturday vrat vidhi, shani dev fast food, shani dev fast procedure in hindi, shani dev fast story, shani dev vrat bhojan, shani dev vrat food, shani dev vrat niyam, shani dev vrat vidhi in hindi, shani fast procedure, shani fast rules, shani upvas, shani vart, shani vrat benefits, shani vrat food, shani vrat katha and shani vrat katha in english.

रविवार व्रत (Sunday Fast)

ravivar vrat udyapan vidhi, maha ravivar vra, ravivar ki aarti, ravivar ki vrat katha, ravivar vart, ravivar vrat aarti, ravivar vrat benefits, ravivar vrat food, ravivar vrat katha, ravivar vrat katha for sun, ravivar vrat katha hindi, ravivar vrat katha pdf, ravivar vrat ki vidhi, ravivar vrat udyapan, ravivar vrat udyapan vidhi, ravivar vrat vidhi, ravivar vrat vidhi in hindi, raviwar puja, raviwar vrat, raviwar vrat katha, sunday fast benefits, sunday fast udyapan, sunday fast vidhi in hindi, sunday fast method and sunday fast procedure, .